thoughts-and-health

विचारों और स्वास्थ्य का सम्बंध

Posted by

ईर्ष्या, द्वेष और निराशा के विचार शरीर को लूटते हैं

Avoid Bad Thoughts & Stay Healthy. स्वच्छ विचारों से स्वच्छ आदतें बनती हैं। तथाकथित संत जो शरीर को रगड़-रगड़ कर धोते हैं वे ज़रूरी नहीं कि संत हैं। जिसने अपने विचारों को मजबूत और शुद्ध किया हुआ है उसे दुष्ट सूक्ष्मजीव से डरने की आवश्यकता नहीं है।ईर्ष्या, द्वेष और निराशा के विचार अपने शरीर के स्वास्थ्य और सौंदर्य को लूटते हैं। मनहूस चेहरा ऐसे ही नहीं आता है; यह घटिया विचारों द्वारा बन जाता है। चेहरे पर झुर्रियाँ मूर्खता, राग-आवेग और घमंड के कारण खींच जाती हैं।

Examples of thoughts affecting health: उदाहरण के लिए, एक नब्बे वर्षीया एक ऐसी महिला का चेहरा चमकदार व मासूम लड़की के जैसा हो सकता है। और ऐसा व्यक्ति जो माध्यम आयु का है और जिसका चेहरा बेमेल रेखाओं से अटा पडा हो सकता है,। पहला व्यक्ति एक प्रसन्न और प्यारे-से स्वभाव का परिणाम है तो दूसरा अंसतोष और राग-आवेग का|

तो जब तक आप अपने कमरे में हवा और धूप को स्वतंत्र रूप से आने नहीं देते तब तक आप एक सुन्दर और शानदार निवास होना नहीं मान सकते। इसी प्रकार एक मजबूत शरीर तथा उज्ज्वल, खुश और शांत मुख-मंडल केवल खुशी, शांति और सद्भावना के विचारों के स्वतंत्र प्रवेश का ही परिणाम होता है|

 शांतिपूर्ण और मधुर उम्र का कारण

Life Long Healthy Thoughts कुछ वृद्धों के चेहरे पर सहानुभूति द्वारा खिंचि गई झुर्रियाँ हैं। कुछ के मजबूत और शुद्ध विचार से और अन्य के चेहरे पर जोश से तराशी गई हैं। कौन उनमें फर्क नहीं बता सकते? जिन लोगों ने सही तरीके से जीवन गुज़ारा है, उनकी ढलती उम्र शांतिपूर्ण और मधुर है, जैसे कि डूबता सूरज। मैंने हाल ही में एक दार्शनिक को उनकी मृत्यु शैय्या पर देखा: वह बूढ़ा नहीं था, सिवाए सालों में| वह उतनी ही मधुरता और शांति से गुज़र गया जैसा कि वह जीवन में रहता था।

बीमारियों को दूर भगाने के लिए

जाहिर है शरीर की बीमारियों को दूर भगाने के लिए आनंदित विचार जैसा कोई चिकित्सक नहीं है। दुःख और शोक की छायाओं को दूर करने के लिए सद्भाव के मुकाबले कोई नहीं है| लगातार बैर-भाव, निंदा, संदेह और ईर्ष्या के विचार रहना एक स्व-निर्मित जेल में सीमित रहने के बराबर है| Keep Beautiful Thoughts

लेकिन सभी का भला सोचना, सभी के साथ हंसमुख रहकर, धैर्य पूर्वक सभी में अच्छाई ढूंढना। ऐसे निःस्वार्थ विचार स्वर्ग के सच्चे द्वार हैं । और दिन-प्रतिदिन समस्त जीवों के प्रति मन में शांति के विचार लगातार बनाए रखना आपको असीम शांति प्रदान करेगा । These are the right thoughts to keep healthy.

Featured Image: By Taylor Harding from Pixabay

Copyright ©2020 Rao TSAll Rights Reserved

Follow Rao TS

Sharing is Caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *