blissfulness

परम आनंद अथवा स्थाई खुशी कैसे प्राप्त करें?

Posted by

Blissfulness: आधुनिक दुनिया में अधिकांश लोग अपनी इच्छाओं, कामनाओं और वासनाओं के पीछे भागे जा रहे हैं। इंद्रियों की तत्काल संतुष्टि की मांग ही प्राथमिकता हो गई है जैसे स्वादिष्ट खान-पान, अतिरेक मनोरंजन, बारम्बार यात्राएं और अनेकों यौन संबंध बनाना आदि। जब वे उपरोक्त वासनाओं  पूरा करते हैं तो उन्हें लगता है कि उन्हें खुशी मिली है जो कि बिलकुल भी सच नहीं है।

दरअसल यह स्थायी खुशी नहीं है बल्कि वास्तव में ऐसा सुख मात्र है जो बाहरी दुनिया के साथ हमारे अंगों के संपर्क से मिलता है। और ऐसा  सुख हमेशा अस्थायी होता है। जैसे ही आपको कोई उत्तेजना मिलती है आप इसके सुख को भोगने फिर भागेंगे। असल में परम आनंद या स्थायी रूप से खुश होने के लिए हमें मन की चार अवस्थाओं या चार मन:स्थितियों को समझने की आवश्यकता है: मन की चार अवस्थाएं निम्न वर्णित हैं:

पशु मानसिकता

एक जानवर के पास खुशी और दुःख के बीच कोई विकल्प नहीं है। उसे जो कुछ भी मिल जाता है उसे ही लेना है। जानवरों के पास मनुष्यों वाली कोई स्वतंत्रता नहीं है। विडंबना यह है कि कई बार मनुष्य भी जानवर की तरह ही व्यवहार करता है (हालांकि जैविक रूप से यह जानवर ही है) या पशु मानसिकता में रहता है। उस स्थिति में, किसी भी व्यक्ति के पास जो कुछ भी है उसे लेने के अलावा कोई विकल्प नहीं है: खुशी या दुख। अब सवाल यह है कि एक आदमी उस स्थिति में क्यों जाता है? पशु स्थिति का मतलब है: अविवेकतापूर्ण खाएं, पीएं, सोएं और यौन संबंध रखें। और वे पूरी तरह से अस्तित्व के सवाल पर अटके हुए हैं। इस सभ्य समाज में अधिकांश मनुष्यों को इस पशु स्थिति ही में पाया जाता है। इस मानसिकता से बाहर निकलना और स्थायी रूप से खुश होना हो तो जागरूकता के स्तर को बढ़ाने की आवश्यकता है।

मानव मानसिकता

जैसा कि ऊपर वर्णित है, वर्तमान में अधिकांश मानव इस अवस्था में हैं। लेकिन जो लोग आमोद-प्रमोद यानि वासना और सच्ची खुशी के बीच भेद समझते हैं वे पशु मानसिकता से ऊपर हैं| ये लोग इस प्रकार की मन की मानवीय अवस्था में आते जाते हैं। यद्यपि इस स्थिति में भी स्थायी खुशी जैसी कोई चीज नहीं है लेकिन लोग खुशी और दुःख के बीच झूलते रहते हैं।

महा-मानव मानसिकता

लोगों में मन की यह स्थिति मानव मानसिकता से सीधे ऊपर है। इस अवस्था में मनुष्य की चेतना का स्तर उच्च होता है। इस स्थिति में मन की दोनों अवस्थाओं अर्थात सुख और दुख में जागरूकता की भावना है। इस स्थिति में एक व्यक्ति सुखी होने पर “कभी भी अत्यंत खुश नहीं होता”। लेकिन वह जानता है कि सुख और दुख दिन-रात जैसे एक दूसरे का पीछा करते हुए एक चक्र में चलते हैं इसलिए वह अपने मार्ग में दुःख झेलने के लिए वैसा ही तैयार है जैसा कि उसने सुख की स्थिति में रहा था–इस बोध के साथ कि दोनों ही स्थितियों को भगवान द्वारा भेजा गया है। लेकिन स्थायी प्रसन्नता या परम आनंद के लिए मन की आखिरी और अंतिम अवस्था जिसके लिए हम सभी को प्रयास करना चाहिए वह है :

दिव्य मानसिकता

मन की दिव्य अवस्था में एक आदमी सामान्य प्राणियों से ऊपर उठ गया होता है; वह सुख और दुःख से परे है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता और न ही कोई स्थिति उसे परेशान कर सकती है।  इस मानसिकता पर आप सब कुछ भगवान की आंखों से देखते हुए पहुंचते हैं; सभी उसके लिए बराबर हैं, हर कोई भी काम एक दिव्य आदेश है। सभी स्थितियां समान हैं चाहे वह सुख या दुःख हो। यहां कोई स्थायी खुशी का प्रश्न अथवा तलाश नहीं है। वह पहले से ही आनंद अवस्था में है जो चिर स्थाई है। यह दिमाग की परम अवस्था है जिसे सभी मनुष्यों हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए। दूसरों की भलाई के लिए काम करके, कल्याणकारी गतिविधियों द्वारा मन की यह स्थिति प्राप्त की जा सकती है। स्वयं की वासनाओं को संतुष्ट न करके वह जानता है कि इच्छाएं कभी मर नहीं जातीं, उन्हें पूरा नहीं बल्कि निरोधत किया जाना चाहिए।

सुख बनाम खुशी: जो लोग बाहरी दुनिया के सुख की तलाश करते हैं वे हमेशा अशांत रहते हैं। ज़रा सा प्रेरक उन्हें उस सुख को पाने हेतु उन्मान्दित कर देता है जबकि एक खुश व्यक्ति हमेशा अपनी वासनाओं से सचेत रहता है| ऐसा नहीं है कि उसके पास जैविक जरूरत नहीं है लेकिन वह उन्हें न्यूनतम रूप से पूरा करता है–जितना आवश्यक हो उतना ही। मिसाल के तौर पर यदि वे भूखे हैं तो वे सामान्य पौष्टिक भोजन खाएंगे जो उनके शरीर को बनाए रखेगा जबकि आनंद लेने वाले अपने पेट को सभी तरह के स्वादिष्ट जंक फूड के साथ भरेंगे। इसी प्रकार जब एक यौन प्रवृत्ति उत्पन्न होती है तो वे मात्र बच्चों की पैदाईश के उद्देश्य से अपने जीवन साथी के साथ मिलते हैं जबकि अन्य लोग अपनी वासना की आग लिए दुनिया भर में भागते-फिरते हैं।

अतिभोग से बचें: तर्क बहुत सरल है, प्रकृति की आवश्यकता है कि हम शारीरिक रूप से फिट रहने के लिए खाते हैं; क्या होता है जब हम अधिक खाते हैं? आप बीमार हो जाते हैं, उन सभी चीजों की उल्टी कर देते हैं, आप कमजोर हो जाते हैं। वही तर्क सेक्स पर भी लागू होता है–यह भोग की बात नहीं है। यदि आप अति करते हैं तो यह आपको बीमार कर देता है| सरल सी बात है फिर भी आप कुछ समय बाद फिर से इसका पीछा करेंगे। जबकि खुशी खुद को पुनर्जीवित करने की कोशिश नहीं करती है। एक आनंदित व्यक्ति इन्द्रियों के वश में नहीं चलता है।

स्थाई आनंद का मंत्र पुनः : इच्छाओं का कोई अंत नहीं, वे  मर नहीं जाती है, उन्हें पूरा नहीं किया जाना चाहिए। और सच्ची और स्थायी खुशी हेतु आपकी दिमागी अवस्था को दिव्य स्तर पर उठाना  होगा: स्वार्थी होने से बचें एवं उदार दिल से कार्य करें। इस संबंध में, यहां संयम और किफायत की कुछ घटनाएं पढ़ें: महात्मा गांधी

यदि स्थायी खुशी या आनंद प्राप्त करने के लिए आपके पास कोई और विचार है, तो कृपया नीचे टिप्पणी करें।
Featured Image: Source

Read This Article in: English

Follow Rao TS

Sharing is Caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.