gandhi-on-consumerism

गांधी: पृथ्वी पर सबकी आवश्यकता हेतु पर्याप्त है

Posted by

Mahatma Gandhi and Consumerism)

पृथ्वी सभी मनुष्यों की जरूरत पूरी करने के लिए पर्याप्त संसाधन प्रदान करती है लेकिन लालच पूरा करने के लिए नहीं — महात्मा गांधी

घटना 1. यहां तक कि  पेड़ों की कुछ पत्तियां भी कीमती हैं

अपने आश्रम में एक सुबह, महात्मा गांधी ने अपने एक परिचारक को दवा के रूप में चबाने के लिए नीम के कुछ पत्ते लाने के लिए कहा। परिचारक जल्द ही पेड़ की एक पूरी टहनी के साथ वापस आ गया। यह देखकर गांधीजी  तड़प उठे और कहा कि उन्हें केवल कुछ पत्तियों की जरूरत है क्यों पत्तों से भरी पूरी टहनी बर्बाद कर दी गई थी। यह परिचारक के लिए मितव्ययिता का एक सबक था जिसे गांधी ने कुछ पत्तियों के अपव्यय के रूप में माना था जो प्रकृति के किसी भी अन्य मूल्यवान संसाधनों के अतिदोहन के बराबर था। (Mahatma Gandhi and Consumerism)

घटना 2. फटी धोती कोई समस्या नहीं

एक अन्य अवसर पर किसी ने महात्मा गांधी को बताया कि उनकी धोती (लुंगी) फट गयी थी जो जनता के बीच दिखाने पर उनके लिए शर्मनाक हो सकता था| गांधी ने अपने परिधान को इस तरह से जाँचा और समायोजित किया कि फटे हुए हिस्से को छिपा दिया गया और कहा– “अब वह हिस्सा और नहीं दिखाई देगा? अभी तो बहुत फटना बाकि है|”

घटना 3. जीवन का एक पल भी बर्बाद न करें

एक बार महात्मा गांधी हिल स्टेशन से दार्जिलिंग जाने वाली प्रसिद्ध टॉय ट्रेन में यात्रा कर रहे थे। यह एक नैरो गेज ट्रेन है जो हिमालय की घाटियों से होकर गुजरती है। ऊपर जाते समय, इंजन खुद ट्रेन के बाकी हिस्सों से कट कर अलग हो गया। इसलिए इंजन आगे की तरफ बढ़ गया और कोच नीचे खिसकने लगे।

उस समय गांधी अपने सचिव को पत्र लिख रहे थे। चारों ओर से हंगामा और घबराहट के बावजूद महात्मा गांधी अपने सचिव को पत्र लिख रहे थे और उन्होंने सचिव को कार्य जारी रखने को कहा। सचिव ने कहा, ” बापू, क्या आप स्थिति को समझते हैं? हम कभी भी मर सकते हैं। डिब्बे धड़ धडाते हुए पीछे भागे जा रहे हैं और इसकी गति बढ़ रही है। कोच किसी भी क्षण पहाड़ी से गिर सकते हैं| ” 

तब महात्मा गांधी ने ज़वाब दिया, “मान लीजिए कि हम बच जाते हैं तो हम इस समय को बर्बाद कर देंगे। और अगर हम मरते हैं तो बात ख़त्म। हैं न ? इसलिए चलो डिक्टेशन लेते रहो।” कांपते हाथों से सचिव ने लेखन फिर शुरू किया। कहानी का नैतिकअभिप्राय है कि अपने जीवन के एक पल को भी बर्बाद मत करो।
उक्त-वर्णित तीनों घटनाएं यह साबित करती हैं कि महात्मा गांधी ने जो उपदेश दिया, उसका स्वयं अभ्यास किया। इन घटनाओं ने संसाधनों को बर्बाद न करने, स्वभाव से उपभोक्तावादी नहीं बनना है जैसे उनके विचारों को रेखांकित किया है|

निष्कर्ष

मुझे पता नहीं है कि हममें से कितने लोग महात्मा गांधी की उस बर्बादी की चिंता पर एक क्षण भी विचार करेंगे ऊपर से जो हम दैनिक जीवन में बड़े पैमाने पर बर्बाद कर रहे हैं: एक रेस्तरां में भोजन छोड़ना, शेविंग करते समय नल का पानी बहाते रखना और आसानी से एक छोटी सी दूरी को पैदल तय करने की बजाय वाहन इस्तेमाल करना आदि| (Mahatma Gandhi and Consumerism)
महात्मा गांधी की विरासत पर हम ज़रा सोचें …अभी इसी वक़्त…वरना यह ग्रह पृथ्वी जल्द ही रहने लायक नहीं होगी अगर हम इसका दोहन यथावत जारी रखेंगे। और याद रखें: पृथ्वी की आवश्यकता हमें है ना कि पृथ्वी को हमारी!

Image: Source

Read This Article in English Here

 

Follow Rao TS

Sharing is Caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.